Breaking News

केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा मध्य प्रदेश के दो दिवसीय अधिकारिक दौरे पर|

केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा ने आज मध्य प्रदेश के दो दिवसीय अधिकारिक दौरे की शुरुआत करते हुए भोपाल राजीव गांधी भवन में  जनजातीय कल्याण की राज्य स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। समीक्षा बैठक के दौरान एक प्रजेंटेशन के द्वारा मंत्रालय द्वारा राज्य में चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं की प्रगति रिपोर्ट मंत्री महोदय के समक्ष प्रस्तुत की गई। समीक्षा बैठक के दौरान आहार अनुदान योजना, राज्य की विशेष पिछड़ी जनजातियों, प्रतिभा योजना, आकांक्षा योजना, आवास सहायता योजना समेत बहुत सी योजनाओं की समीक्षा की गई। बैठक के दौरान आवश्यक निर्देश देते हुए मंत्री महोदय ने डेटा मैनेजमेंट सिस्टम पर और बेहतर तरीके से काम करने को कहा ताकि योजनाओं का लाभ और बेहतर तरीके से लोगों तक पहुंच सके।

केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा जी ने राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, भोपाल के आदिवासी छात्रों के साथ बहुत ही सुखद बातचीत की। जिन छात्रों से उन्होंने बातचीत की उनमें से अधिकांश जनजातीय मामलों के मंत्रालय द्वारा प्रायोजित शीर्ष श्रेणी छात्रवृत्ति योजना के प्राप्तकर्ता हैं।

 इसके बाद माननीय मंत्री जी ने विभिन्न कल्याण योजनाओं के हितग्राहियों से संवाद करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वर्तमान केंद्र सरकार आदिवासी समाज के विकास के लिए पूरी तरह से समर्पित है। सरकार द्वारा आदिवासी समाज के कल्याण के लिए जो प्रयास किेए जा रहे हैं, उसका लाभ सबको मिल रहा है। उन्होंने कहा कि विकास सबके लिए चाहिए और विकास का मतलब है कि हम जनजातीय समुदाय के लोग जो देश के विभिन्न गांवों में आदिकाल से परम्परागत ढंग से अपनी सांस्कृतिक विरासत को लेकर रह रहे हैं उसमे हमारी पहचान और निरंतरता बनी रहे। साथ ही साथ आज जो दुनिया बदल रही है उसके अनुसार हमारे बच्चों को सही तरीके से शिक्षा, स्वास्थ्य, और स्वावलम्बन का अवसर मिले। माननीय मंत्री जी ने कहा कि आज देश के विकास में हर व्यक्ति अपनी भूमिका निभा रहा है ऐसे में जनजातीय समाज की भी एक निश्चित भूमिका है और हमें खुशी है कि यह समाज अपनी भूमिका बेहतर तरीके से अदा कर रहा है।

बातचीत के दौरान लाभार्थियों ने विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत मिले लाभ का जिक्र किया और बताया कि उनके जीवन को सुलभ बनाने में मंत्रालय द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का बहुत अहम योगदान है। बातचीत के दौरान लाभार्थियों ने योजनाओं को और बेहतर बनाने के कुछ सुझाव भी दिए जिसपर मंत्री महोदय ने आगे विचार करने की बात कही।

माननीय केन्द्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा जी ने मध्य प्रदेश के अपने दो दिवसीय आधिकारिक दौरे के दौरान अनुसूचित क्षेत्रों के ग्राम प्रधानों और स्थानीय किसानों की समस्याओं को सुनकर बातचीत की और आश्वासन दिया कि केंद्र द्वारा राज्य सरकार के माध्यम से मुद्दों को हल करने के लिए आवश्यक सहायता प्रदान की जाएगी।अपने भोपाल यात्रा के दौरान केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा ने जनजातीय अनुसंधान एवं विकास संस्था का भी दौरा किया और वहां की गतिविधियों की समीक्षा की।  इस दौरान जनजातीय अनुसंधान एवं विकास संस्थान, भोपाल द्वारा किए जा रहे कार्यों और भावी योजनाओं के संबंध में मंत्री महोदय ने विस्तृत चर्चा की। चर्चा के दौरान जनजातीय अनुसंधान एवं विकास संस्था, मध्य प्रदेश के नए आयामों, संस्था के प्रकाशनों और जनजातीय नायकों को समर्पित संग्रहालय के बारे में भी विस्तृत चर्चा की गई। इस दौरान मंत्री महोदय ने संस्थान में स्थित आदिवासी संग्रहालय का दौरा भी किया।

केंद्रीय जनजाति कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा जी द्वारा जनजातीय अनुसंधान संस्था मैं संस्था की गतिविधियों की समीक्षा की गई। माननीय मंत्री जी द्वारा संस्था द्वारा किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की गई तथा यह भी सुझाव दिया गया कि संस्था द्वारा मध्यप्रदेश में निवासरत विभिन्न जनजातियों का जनजाति वार विकास संकेतकों के आधार पर क्या स्थान है इसका भी अध्ययन किया जाए जिससे यह ज्ञात हो सके कि वे शिक्षा स्वास्थ्य सामाजिक तथा अधोसंरचना कार्यों में किस मामले में अन्य समाजों से पीछे हैं यह कार्य मध्यप्रदेश की विशेष पिछड़ी जनजातियों के लिए विशेष तौर पर किया जाए।  संस्था द्वारा जनजातीय परंपरागत चिकित्सा पद्धति पर भी अध्ययन कराया जाए तथा आयुष विभाग के माध्यम से इन्हें शासन तंत्र के अधीन लाने का प्रयास किया जाना चाहिए । जनजातीय अनुसंधान संस्था द्वारा छिंदवाड़ा में निर्माणाधीन जनजाति स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को समर्पित संग्रहालय के निर्माण कार्य की समीक्षा की गई तथा यह उल्लेख किया गया की संस्था द्वारा कार्य अक्टूबर में पूर्ण किए जाने का जो लक्ष्य निर्धारित किया गया है उसके अनुरूप तेजी से कार्य संपादित किया जाए।संस्था में स्थित लघु संग्रहालय का भी निरीक्षण किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.